अपने कर्तव्य और सकारात्मक बदलाव को लेकर व्हाट्सएप ग्रुप में यूजर्स लिख रहे काश मेरे जिले में भी कोई डॉक्टर फैसल होता

शेखपुरा हमारी नजर
जनादेश न्यूज़ शेखपुरा
बरबीघा:एक कहावत आपने सुना होगा कर्म प्रधान विश्व करि राखा जो जस करें तस फल चाखा. आप जैसा कर्म करिएगा आपको उसी अनुरूप फल मिलेगा और समाज में वैसी ही आपकी गरिमा होगी. समाज में लोग डॉक्टर को भगवान कहते हैं समाज में कुछ ऐसे ही है बरबीघा रेफरल अस्पताल के चिकित्सा पदाधिकारी डॉक्टर फैसल अरशद वाकई अपने कर्तव्य,व्यक्तित्व और सकारात्मक बदलाव से लोगों के बीच अपने बेहतर कार्यों से अपने व्यक्तिगत पहचान को समाज में एक अलग रूप में स्थापित कर रहे हैं.
कुछ ऐसा ही वाकया देखने को मिला शेखपुरा जिले के एक पत्रकार और प्रशासन नामक व्हाट्सएप ग्रुप में जिसमें ग्रुप के यूजर्स जो व्हाट्सएप ग्रुप में Ajay kumar Gabey के नाम से ऐड है उन्होंने ग्रुप में अपने पुत्र के इलाज का तस्वीरें डालकर लिखे हैं कि….

….. कहते हैं कि अकेला चना भाड़ नहीं फोड़ सकता है पर कई बार कालेजी व्यक्तित्व इस मिथ को तोड़ भी देते हैं. यह महसूस तब किया जब अकस्मात आज मेरे बेटे की तबीयत बिगड़ गई हैरान परेशान होकर निजी नर्सिंग होम की तरफ दौड़ लगाने की सोचें पर संदीप भारती जी ने विश्वास दिलाया कि अब बरबीघा रेफरल अस्पताल में बेहतर इलाज की व्यवस्था उपलब्ध है. सच में यहां सब कुछ बदला हुआ है और बेहतर महसूस हुआ सेवा को तत्पर अस्पताल कर्मी इलाज को तत्पर और हमेशा उपलब्ध चिकित्सक हाइजीन का स्तर कुल मिलाकर निजी नर्सिंग होम से बेहतर सुविधा मिली. यह सब सकारात्मक बदलाव सबसे ज्यादा प्रभावी है जब से फैसल सर ने प्रभारी के रूप में अपना योगदान दिया है. काश सभी सरकारी कर्मी ऐसी ही सक्रियता और तत्परता से अपनी जिम्मेदारी निभाते तब निश्चित रूप से आमजन का जीवन आसान हो जाता. अब हमारे बच्चे का स्वास्थ्य बेहतर है. अंत में उन्होंने लिखा कि लाख-लाख शुक्रिया ईश्वर का और डॉक्टर साहब व सहायक स्वास्थ्य कर्मी का….उक्त सारी बातें बरबीघा रेफरल अस्पताल के प्रति अजय कुमार नामक व्यक्ति ने एक व्हाट्सएप ग्रुप में लिखा और उन्होंने अपना दिल से शुक्रिया डॉक्टर फैसल अरशद को दिया है. इतना ही नहीं आपको बता दें कि ऐसे बेहतर व्यवस्था की खबर हेल्थ शेखपुरा नामक ग्रुप में भी चली जिसमें डॉ अरविंद कुमार न्यूज व्हाट्सएप ग्रुप में लिखे की “”काश मेरे जिला में भी कोई डॉक्टर फैसल होता””
आपको बता दें कि डॉक्टर फैसल अरशद के द्वारा रेफरल अस्पताल बरबीघा के सकारात्मक बदलाव तथा बेहतर इलाज की व्यवस्था को देखते हुए शेखपुरा के लोग इनके कर्तव्य को समाज में एक मानवता की मिसाल बता रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *