जैसे जैसे चुनाव नज़दीक आ रहा है ज़िले के स्वीप आइकॉन आशुतोष कुमार मानव का अभियान भी तेज़ हो रहा है

नालंदा
जनादेश न्यूज़ नालंदा
बुधवार को भी ज़िले के कई हिस्से में मतदाता जागरूकता के लिए चुनावी चौपाल लगाकर ग्रामीण वोटरों को उन्होंने लोकतंत्र के प्रति जागरूक किया गया.इसी कड़ी में ग़ुलनी गाँव के महिला एवं दिव्यांग मतदाताओं को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि बिना लोभ लालच, भय के अपना क़ीमती वोट 19 मई को अवश्य दें. इसी क्रम में हम हैं मतदाता राष्ट्र के निर्माता, पहले मतदान फिर जलपान, अपना फ़र्ज़ निभाएँगे वोट देने जाएँगे, सारा काम छोड़ दो सबसे पहले वोट दो….,जैसे जोशीले गीत के साथ प्रखंड एवं आसपास की सैंकड़ों महिलाओं , प्रखंड कर्मियों, शिक्षकों एवं छात्र युवाओं ने लोकतंत्र में अपनी आस्था प्रकट की. इसके पूर्व हिलसा प्रखंड के कई गाँवो में मतदाता जागरूकता अभियान चलाते हुए ज़िले के स्वीप आइकॉन आशुतोष कुमार मानव ने अपने सहयोगियों के साथ जीविका दीदियों ,सेविका, विकास मित्र के साथ साथ अन्य ग्रामवासियों को मतदान के प्रति जागरूक किया .इस अवसर पर आस- पास के मुहल्लों की दर्जनों किशोरियों, महिलाओं के अलावे गाँव के युवाओं ने आने वाले उन्नीस मई को अपने अपने मतदान केन्द्र पर जाकर सौ फ़ीसदी वोट दिलवाने का आह्वान किया. साथ ही ईमानदार छवि के उम्मीदवार को ही अपना मत देने की बात कही. इस अवसर पर उपस्थित चुनाव आयोग के ज़िला आइकॉन आशुतोष कुमार मानव ने बिहार की अस्मिता एवं गौरव गाथा की चर्चा करते हुए कहा कि इस प्रदेश की स्थापना काल से अब तक बड़ीसंख्या में लोगों ने ख़ासकर महिलाओं ने सराहनीय कार्य करते हुए पूरे देश कामान सम्मान बढ़ाया है , यहाँ की महिलाएँ दृढ़ इच्छा शक्ति की धनी हैं. बिहार हमेशा हरक्षेत्रमें आगे रहा है. दुर्भाग्य से मतदान का प्रतिशत धीरे धीरे कमता जा रहा है जो चिंता का विषय है. ऐसी परिस्थिति में ख़ासकर नारी शक्ति के योगदान को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता. जब जब समाज में संकट के बादल घिरे हैं तब तब देश की महिलाओं ने ही लोहा लिया है. जीविका संगठन से जुड़ी महिलाओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज़ादी की लड़ाई में भी महिलाओं की बड़ी भूमिका रही है. संकट के समय में यही वर्ग जोश खरोश के साथ बिना किसी भय के डटा रहता है. लोकतन्त्र की मज़बूती के लिए भी उसी जोश के साथ लगने कीज़रूरत है. वोटर किसी भी लोकतान्त्रिक प्रणाली वाले देश का सबसे मज़बूत आधार स्तम्भ होता है, जिसका जागे रहना बेहद ज़रूरी है. सबकोमिलकर संकल्प लेना होगा कि आगामी लोकसभा चुनाव में एक भी मतदाता वोट देने से वंचित न रहे. उन्होंने उपस्थित वोटरों से अधिक से अधिक मतदान दिलवाने में उनकी भूमिका के बारे में विस्तार से बताते हुए लोकतन्त्र के महापर्व को भी अन्य पर्व- त्योहार की तरह उत्साहपूर्वक मनाने की अपील की. गाँव के वोटरों को आगामी उन्नीस मई को अधिक से अधिक संख्या में वोट देने की अपील करते हुए लोगों को मतदान के प्रति जागरूक किया गया. इस दौरान महिलाओं के द्वारा गाए गए जागरूकता गीतों ने सबको झूमने पर मजबूर करदिया. मौक़े पर बीपी एम मनोज कुमार, सत्येन्द्र प्रसाद सिन्हा, शशि कुमार चंचल, किरण कुमारी , गीता देवी, मनीषा राज, संदीप कुमार, अनंत, इंदिरा देवी आदि उपस्थित थे.कार्यक्रम के समापन के पूर्व उपस्थित वोटरों ने लोकसभा चुनाव में ख़ुद मतदान करने के साथ साथ अन्य को भी प्रेरित करने का सामूहिक संकल्प लिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *